Monthly Archives: April 2016

10 साल बाद यूएस कांग्रेस की संयुक्त बैठक में सुनाई देगी भारत के PM की आवाज

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अमेरिकी यात्रा के दौरान 8 जून को अमेरिकी कांग्रेस की एक संयुक्त बैठक को संबोधित करने का न्योता दिया गया है। हाउस ऑफ रिप्रजेंटेटिव के स्पीकर पॉल रियान ने यह जानकारी दी है।

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के एक प्रवक्ता ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रस्तावित अमेरिका यात्रा को लेकर व्हाइट हाउस की भारतीय अधिकारियों से बातचीत हो रही है।

modi-obamaमोदी अमेरिकी कांग्रेस की संयुक्त बैठक को संबोधित करने वाले भारत के पांचवें प्रधानमंत्री होंगे और 2005 के बाद से वह ऐसे पहले प्रधानमंत्री होंगे। प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह (19 जुलाई, 2005), अटल बिहारी वाजपेयी (14 सितंबर, 2000), पी वी नरसिंह राव (18 मई, 1994) और राजीव गांधी (13 जुलाई, 1985) अमेरिकी कांग्रेस की संयुक्त बैठक को संबोधित कर चुके हैं।

व्हाइट हाउस के प्रेस सचिव जोश अर्नेस्ट ने हालांकि इस बाबत कोई संकेत नहीं दिया कि इस बारे में कोई अंतिम फैसला हुआ है या नहीं अथवा क्या राष्ट्रपति बराक ओबामा की ओर से मोदी को औपचारिक निमंत्रण भेजा गया है या नहीं।

अर्नेस्ट ने कहा कि ओबामा मोदी के साथ अपने रिश्ते का आनंद उठाते हैं। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति ने पिछले साल नवंबर में जलवायु परिवर्तन पर पेरिस सम्मेलन की सफलता में प्रधानमंत्री मोदी की महत्वपूर्ण भूमिका की सराहना की।

प्रधानमंत्री का यह दो साल में चौथा अमेरिकी दौरा होगा। इस बार पीएम स्टेट विजिट पर होंगे। इससे पहले पीएम मोदी अपने अमेरिका दौरे में संयुक्त राष्ट्र, सिलिकॉन वैली और न्यूक्लियर समिट को लेकर अमेरिका गए थे लेकिन इस बार उनका दौरा पूरी तरह अमेरिका पर ही केंद्रित होने की उम्मीद है। एक्सपर्ट मानते हैं कि पीएम मोदी की यह यात्रा दोनों देशों के संबंधों के लिहाज से मील का पत्थर साबित हो सकता है।

भूल जाइये गूगल का जीपीएस, भारत ने लांच किया पहला जीपीएस नाविक

भारत ने पहली बार अपना खुद का जीपीएस सिस्टम स्थापित करने में सफलता प्राप्त कर ली है। इसरो ने सफलतापूर्वक जीपीएस सैटेलाइट को लांच कर दिया है। इस जीपीएस सिस्टम को इसरो ने लॉच किया जिसे नाविक नाम दिया गया है। यह मिशन मंगलवार को शुरु किया गया था। इसे दोपहर बारह बजे श्रीहरिकोटा से लांच किया गया था।

pslm launchइस जीपीएस सैटेलाइट के लांच होने के बाद अप आपको गूगल के जीपीएस सिस्टम में निर्भर नहीं रहना पड़ेगा। यह भारत का पहला जीपीएस नेविगेशन सिस्टम है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस सैटेलाइट के सफलतापूर्वक लांच होने के बाद वैज्ञानिकों को दिल से शुक्रिया अदा किया और देश को और नये वाविष्कार के जरिए आगे बढ़ाने के लिए काम करते रहने को कहा।

पीएम मोदी के संदेश के मुख्य अंश

  • मेक इन इंडिया और मेड इन इंडिया के सपने को भारतीय वैज्ञानिकों ने साकार कर दिखाया है, मैं उनका बहुत-बहुत धन्यवाद देता हूं।
  • नाविक का इस्तेमाल ट्रेन में सफर करते समय, कार से सफर करते समय बड़ी आसानी से किया जा सकेगा।
  • नाविक हमें रास्ता दिखायेगा, नेविगेशन सैटेलाइट सिस्टम जोकि नेविगेशन विद इंडियन कॉस्टिलेशन (NAVIC) के नाम से यह जाना जाएगा।
  • यह जीपीएस सिस्टम नाविक नाम से जाना जाएगा। हम व्यवस्था साहसी नाविकों को समर्पित किया जा रहा है। यह हमारा अपना नाविक होगा।
  • सदियों पहले हमारे नाविक चंद्र सितारों की मदद से समुद्र में उतरते थे। लेकिन अब विज्ञान की मदद से इस तकनीक की मदद से नाविक समुद्र में उतर सकते हैं।
  • अगर सार्क देश चाहे तो वो भी भारत की इस जीपीएस की सेवा ले सकते हैं।
  • इसकी क्षमता इतनी है कि यह भारत के अलावा 1500 स्क्वायर किलोमीटर की दूरी में भी यह अपनी सेवा दे सकता है।
  • मंजिल का पक्का एड्रेस तय किया जाएगा।
  • अब हमारे विमानों को अगर लैंड करना है तो अपनी व्यवस्था से सटीकता से लैंड किया जा सकता है।
  • प्राकृतिक आपदा के समय मदद पहुंचाने के लिए अपनी जीपीएस सिस्टम मदद करेगा।

अब हर स्मार्ट फोन में होगा पैनिक बटन, मेनका ने दी पीएम मोदी को बधाई

दूरसंचार विभाग ने ‘मोबाइल फोन हैंडसेट में पैनिक बटन और ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम नियम 2016′ अधिसूचित कर दिए हैं। महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने जून, 2014 में एक पहल के रूप में मोबाइल फोन में एक पैनिक बटन लगाने का मुद्दा उठाया था। यह जरूरी समझा गया था कि गंभीर संकट में फंसी महिलाओं को सुरक्षा प्रदान करने के लिए यह आवश्‍यक है कि कोई ऐसी सटीक व्‍यवस्‍था हो जिससे कि वे अपने किसी परिजन अथवा पुलिस अधिकारियों को आपातकालीन सिग्‍नल भेज कर अपनी सुरक्षा सुनिश्चित कर सकें।

mobile

मंत्रालय ने अनेक हितधारकों और दूरसंचार विभाग के साथ इस मसले पर विचार-विमर्श किया था और इस बात पर विशेष जोर दिया था कि मोबाइल फोन पर एप के बजाय पैनिक बटन होना ज्‍यादा कारगर साबित होगा। यह दलील दी गई थी कि किसी संकट में फंसी महिला के लिए महज एक-दो सेकेंड ही अपने बचाव के लिए होते हैं, क्‍योंकि उस पर शारीरिक/यौन हमला करने वाला व्‍यक्ति अक्‍सर उसके मोबाइल फोन को अपने कब्‍जे में लेने के लिए झपटता है। विस्‍तृत विचार-विमर्श के बाद दूरसंचार विभाग और हितधारक आखिरकार मोबाइल फोन में यह सुविधा सुनिश्चित करने पर सहमत हो गए।

दूरसंचार विभाग ने पैनिक बटन पर नियमों को अधिसूचित कर दिया है। जिसे भारतीय वायरलेस टेलीग्राफ एक्ट 1933 की धारा 10 के तहत जारी किया गया है। इन नियमों के तहत 1 जनवरी, 2017 से सभी फीचर फोन में पैनिक बटन की सुविधा होगी, जिसके लिए इसके की-पैड के 5वें अथवा 9वें बटन को निर्धारित किया जाएगा।

इसी तरह सभी स्‍मार्ट फोन में भी पैनिक बटन की सुविधा होगी, जिसके लिए इसके की-पैड के ऑन-ऑफ बटन को तीन बार बेहद थोड़े समय के लिए दबाना होगा। यही नहीं, 1 जनवरी, 2018 से सभी मोबाइल फोन में ऐसी विशेष सुविधा देनी होगी, जिससे उपग्रह आधारित जीपीएस के जरिये यह पता लगाया जा सकेगा कि किसी खास समय पर वह फोन किस स्‍थान पर था। महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका संजय गांधी ने यह ऐतिहासिक कदम उठाने पर प्रधानमंत्री को बधाई दी।

शाहरुख ने पीएम मोदी की तारीफ की, ‘मेक इन इंडिया’ को बताया सबसे महत्वपूर्ण पहल

अभिनेता शाहरुख खान ने केंद्र सरकार के ‘मेक इन इंडिया’ कार्यक्रम की सराहना करते हुए उसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सर्वाधिक महत्वपूर्ण पहल बताया, जिससे देश में रोजगार पैदा हो रहे हैं।

शाहरुख ने पत्रकारों से कहा, ‘मेक इन इंडिया संभवत: हमारे सम्माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की एक सबसे अधिक महत्वपूर्ण पहल है, जो भारत और विदेशों में कंपनियों को हमारे अपने देश में और हमारी जमीन पर उत्पाद बनाने के लिए प्रेरित करती है और इस तरह रोजगार निर्माण, कौशल विकास करती है।’

Shahrukh khan & PM Modi
50 वर्षीय शाहरुख भाजपा नेता शाइना एनसी की पुस्तक ‘मूवर्स एंड मेकर्स’ के विमोचन के मौके पर बोल रहे थे। यह पुस्तक ‘मेक इन इंडिया’ पहल को समर्पित है।

शाहरुख ने कहा कि ‘मेक इन इंडिया’ के माध्यम से नए तकनीकी विस्तार कई पीढ़ियों के लिए लाभकारी होंगे। इस मौके पर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस भी उपस्थित थे।

अब हर स्कूल में मिलेगी ब्रॉडबैंड सुविधा

हरियाणा के सभी सरकारी स्कूल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की डिजिटल इंडिया मुहिम का हिस्सा बनेंगे। इनमें ब्रॉडबैंड सुविधा उपलब्ध करवाई जाएगी। प्राइमरी और मिडिल स्कूलों में भी कंप्यूटर शिक्षा पर जोर दिया जाएगा। प्राइमरी और मिडिल स्कूलों को भी ब्रॉडबैंड कनेक्शन के साथ-साथ एक-एक कंप्यूटर और आपरेटर भी उपलब्ध करवाया जाएगा। अभी तक किसी भी सरकारी प्राइमरी और मिडिल स्कूल में कंप्यूटर सुविधा नहीं है।

Digitel India Scheme for Pm Modi

बीएसएनल से किया जा रहा टाईअप
हरियाणा भर के सरकारी स्कूलों में इंटरनेट सुविधा उपलब्ध करवाने का काम बीएसएनएल करेगा। हरियाणा शिक्षा विभाग इसके लिए बीएसएनएल से टाईअप कर रहा है। शिक्षा विभाग ने अपनी रिक्वायरमेंट बता दी है और उसी के मुताबिक बीएसएनएल अपने इंटरनेट प्लान हरियाणा शिक्षा विभाग को बताएगा।

वर्जन–
हरियाणा शिक्षा विभाग ने सभी सरकारी स्कूलों में ब्रॉडबैंड सुविधा शुरू करवाने निर्णय लिया है। प्राइमरी और मिडिल स्कूलों में भी कंप्यूटर व आपरेटर उपलब्ध कराने की योजना पर काम चल रहा है। ये डिजिटल इंडिया मुहिम की ओर एक बेहतर कदम है।
-जिले सिंह, डिप्टी डायरेक्टर, हरियाणा शिक्षा विभाग