Monthly Archives: January 2017

pm-narendra-modi

पाकिस्‍तान मौके की तलाश में रहता है : पंजाब के कोटकपुर में रैली में बोले पीएम नरेंद्र मोदी

पंजाब चुनाव के चलते राज्‍य में प्रचार अभियान के तहत आज फरीदकोट के कोटकपुर जिले में रैली को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि पाकिस्‍तान मौके की तलाश में रहता है. वह हमेशा पंजाब की धरती के इस्‍तेमाल की फ़िराक़ में रहता है. अगर यहां सरकार ढीली-ढाली आ जाए तो सिर्फ पंजाब ही नहीं, बल्कि हिंदुस्‍तान को संकट के दौर से गुजरना होगा. इसलिए पंजाब में एेसी सरकार चाहिए, जो देश की सुरक्षा भी कर सके.

पीएम ने आगे कहा कि ‘किसानों को फसल बीमा योजना दी. यह योजना किसानों की भलाई है. हम चाहते हैं कि पंजाब का किसान दुग्‍ध के उत्‍पादन में भी अव्‍वल रहे. दो साल में हम लोगों को भरपूर काम करने का मौका मिला है. पंजाब को ऊंचाइयों पर ले जाने में बादल साहब ने कोई कसार नहीं छोड़ी है. 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने का हमनें संकल्प लिया है’.

पीएम ने आगे कहा कि जिन लोगों ने गुरु ग्रंथ साहिब का अपमान किया है, उन लोगों को कानून के हिसाब से सजा दी जाएगी. प्रधानमंत्री ने कहा कि पंजाब की धरती पर जल्द ही इथेनॉल बनाने के कारखाने लगेंगे.

pm modi goa rally

गोवा में बोले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, जो 50 साल में ना हुआ वो 25 महीनें में किया

गोवा में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए पीएम मोदी ने आज पणजी में रैली को संबोधित करते हुए विपक्षी पार्टियों पर जमकर हमला बोला और गोवा के विकास की बात कहते हुए भाजपा को वोट देने की अपील की। पीएम ने कहा कि ये चुनाव गोवा को अस्थिरता की बीमारी से मुक्त करने का चुनाव है और आप हमें बहुमत के साथ सत्ता सौंपिए।

पीएम मोदी ने कहा कि ”गोवा की प्रगति को देख कर संतोष होता है, आनंद होता है। विकास को बढावा देने के लिए हमने अपना पूरा फोकस विदेशी पर्यटकों की संख्या बढ़ाने पर किया है।” पीएम ने कहा कि गोवा में 50 साल में जितना विकास नहीं किया गया, उतना हमारी सरकार ने 25 महीने में कर दिया। क्षेत्रीय पार्टियों को वोट ना देने की बात कहते हुए मोदी ने कहा कि वोटकटवा लोग लोकतंत्र के जेबकतरे हैं। ये लोग किसी के नहीं हो सकते है। पीएम ने कहा कि कुछ पार्टियां अभी से बैठी हैं कि एक तारीख को भारत सरकार का बजट आए तो हम ऐसा हमला करें कि सरकार बदनाम हो, ये लोकतंत्र के लिए अच्छी सोच नहीं है।

सारी दुनिया में हो रही भारत की जयकार
उन्होंने कहा कि कुछ लोग तो अभी से ये प्लान बना रहे हैं कि हार के बाद क्या बहाना बनाएंगे। पीएम ने कहा कि विपक्षी पार्टी अपनी हार से डर रहे हैं और व्यवस्था को दोष दे देने की सोच रहे हैं। उन्होंने कहा कि जब अंपायर पर भरोसा नहीं है तो खेलते ही क्यों हो? पीएम ने कहा कि विपक्षी पार्टियां राजनीति को गिराना चाह रही हैं, ये ठीक नहीं है। सभी को लोकतांत्रिक मूल्यों का सम्मान करना चाहिए। पीएम ने कहा कि जितनी होशियार देश की जनता है, उससे ज्यादा होशियार गोवा की जनता है और गोवा के लोग कांग्रेस को देख चुके हैं, उनके बहकावे में नहीं आएंगे। उन्होंने कहा कि आज पूरी दुनिया में भारत का जय-जयकार हो रहा है क्योंकि दिल्ली में 30 साल बाद बहुमत की सरकार है।

पीएम मोदी ने कहा कि आज पूरा देश सर्जिकल स्ट्राइक पर चर्चा कर रहा है कि आखिर ये सब हो कैसे रहा है। ये हमारी सेना ने करके दिखाया है। पीएम ने कहा कि इस देश में गरीबी हटाओ के नारे तो खूब लगे लेकिन कोशिश नहीं हुई। उन्होंने कहा कि कर्नाटक में कांग्रेस नेता के घर करोड़ों का कालाधन निकला लेकिन कांग्रेस ने उस पर कोई कार्रवाई नहीं की। मोदी ने कहा कि मैंने भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई छोड़ी है और ये लड़ाई जारी रहेगी। उन्होंने कहा कि गरीबों की जिंदगी में बदलाव के लिए वो जान लड़ा देंगे। पीएम ने गोवा के लोगों से भाजपा को वोट देने की अपील की।

narendra-modi-mann-ki-baat

‘मन की बात’ में पीएम नरेंद्र मोदी ने छात्रों को दिया मंत्र- ‘स्‍माइल मोर, स्‍कोर मोर’

चुनाव आयोग की हरी झंडी के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस साल की पहली ‘मन की बात’ की. मन की बात की शुरुआत में उन्होंने हाल ही में जम्मू-कश्मीर में हिमस्खलन की चपेट में आने से जान गंवाने वाले जवानों को श्रद्धांजलि दी. इसके बाद पीएम के मन की बात का पूरा फ़ोकस छात्रों की होने वाली परीक्षाओं पर रहा.

प्रधानमंत्री ने छात्रों और उनके अभिभावकों को परीक्षा से पहले तनावमुक्त रहने की सलाह दी. इसके साथ ही कहा कि परीक्षा को उत्सव की तरह मनाएं, इसे जीवन-मरण का सवाल न बनाएं. पीएम ने छात्रों को स्माइल मोर, स्कोर मोर का मंत्र दिया.

पीएम की ‘मन की बात के मुख्‍य अंश…

  • अधिकार और कर्तव्य की दो पटरी पर ही, भारत के लोकतंत्र की गाड़ी तेज़ गति से आगे बढ़ सकती है.
  • शहीदों को सम्‍मान दिया गया है.
  • युवा सोशल मीडिया पर वीर सैनिकों, शहीदों के पराक्रम को लिखें.
  • मैं शहीद हुए जवानों को नमन करता हूं.
  • हिमस्‍खलन में जवानों का खोना दुखद.
  • आज मैं बच्‍चों से बात करने आया हूं.
  • परीक्षा में परेशानी का वातावरण.
  • युवाओं से विस्‍तार से बात करूंगा.
  • बच्‍चों ने अपनी परेशानियों को शेयर की हैं. इन परेशानियों को शेयर कर रहा हूं.
  • परीक्षा अपने आप में, एक खुशी का अवसर होना चाहिए. परीक्षा एक उत्सव है, परीक्षा को ऐसे लीजिए जैसे मानों त्योहार है.
  • ज्‍यादातर के लिए परीक्षा परेशानी हैं.
  • परीक्षा में उत्‍सव का माहौल बने. उत्‍सव से दबाव कम हो जाएगा. माता-पिता बच्‍चों की मदद करें.
  • स्‍माइल मोर, स्‍कोर मोर. जितने ज्‍यादा खुश रहेंगे, उतने ज्‍यादा आपको अंक प्राप्‍त होंगे.
  • तनाव में सारे दरवाजे बंद होते हैं. तनामुक्‍त रहने से परेशानी कम होती हैं.
  • रिलैक्‍स रहेंगे तो चीजें याद रहेंगी. तनाव में ज्ञान नीचे दब जाता है.
  • गुड मार्कशीट के लिए हैप्‍पी माइंड.
  • परीक्षा जीवन की कसौटी नहीं है.
  • परीक्षा जीवन-मरण का सवाल नहीं है.
  • विफलता से घबराना नहीं चाहिए.
  • अधिकार के साथ कर्तव्‍य पर भी ध्‍यान दें.
  • परीक्षा को सही संदर्भों में देखना जरूरी है. हमारे सामने,हमारे पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम  प्रेरक उदाहरण हैं.
  • जीवन को आगे बढ़ाने के लिए प्रतिस्‍पर्धा काम नहीं आती है. जीवन को आगे बढ़ाने के लिए अनुस्‍पर्धा काम आती है.
  • खुद के साथ मुकाबला करें, दूसरों के साथ नहीं. पीएम ने इस संदर्भ में क्रिकेट लीजेंड सचिन तेंदुलकर का उदाहरण भी दिया.
  • प्रतिस्‍पर्धा में पराजय, हताशा, निराशा और ईर्ष्या को जन्म देती है, लेकिन अनुस्‍पर्धा आत्मंथन, आत्मचिंतन का कारण बनती है.
  • अभिभावक अपेक्षा ज्‍यादा करते हैं. बच्‍चों से अपेक्षा कम करें, ठीक रहेगा.
  • मैं अभिभावकों से इतना ही कहना चाहूंगा- तीन बातों पर हम बल दें… स्वीकारना, सिखाना, समय देना.
  • नकल आपको बुरा बनाती है, इसलिए नकल न करें.
  • नकल जीवन को विफल बनाने के रास्‍ते की तरफ घसीटकर ले जाती है.
  • कभी-कभी मुझे लगता है कि अभिभावकों की जो अपेक्षाएं होती हैं, उम्मीदें होती हैं, वो बच्चे के स्‍कूल बैग से भी ज़्यादा भारी हो जाती हैं.
  • स्वीकृति समस्याओं के समाधान का रास्ता खोलती है. अपेक्षाएं राह कठिन कर देती हैं.
  • मैं अभिभावकों से कहना चाहूंगा कि परीक्षा के दिनों में बच्चों को हंसी-ख़ुशी का भी माहौल दें. आप देखिए, वातावरण बदल जाएगा.
  • सर्वांगीण विकास करना है, तो किताबों के बाहर भी एक जिंदगी होती है और वो बहुत विशाल होती है.
  • अपने संकल्प को याद करते हुए, अपने पर विश्वास रखते हुए, परीक्षा के लिए जाइए, मेरी बहुत शुभकामनाएं हैं.
  • हर कसौटी से पार उतरने के लिए कसौटी को उत्सव बना दीजिए. फिर कभी कसौटी, कसौटी ही नहीं रहेगी. इस मंत्र को लेकर आगे बढ़ें.
  • पीएम ने भारतीय तटरक्षक बल के अधिकारियों और सैनिकों ने देश के प्रति उनकी सेवा के लिए धन्‍यवाद दिया.
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों को बसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाएं दीं.
16174963_1502284873145364_8210856878677766859_n

जब राजपथ पर सुरक्षाघेरे को तोड़ पीएम नरेंद्र मोदी पहुंचे लोगों के बीच…

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी महत्वपूर्ण अवसरों पर जनता से संवाद करना नहीं भूलते. गणतंत्र दिवस पर भी वह प्रोटोकॉल तोड़कर लोगों के बीच पहुंच गए. गुरुवार को भी जब पीएम मोदी का काफिला राजपथ से गुजर रहा था, तभी वह अचानक लोगों के पास पहुंच गए और हाथ हिलाकर लोगों का अभिवादन किया. पीएम मोदी के चारों ओर सुरक्षाबल थे, लेकिन पीएम अचानक आगे बढ़ते हुए लोगों के पास तक पहुंच गए. पीएम को अपने करीब देखकर लोगों का उत्साह देखने लायक था. दर्शकदीर्घा में मौजूद लोगों को शायद इसकी अपेक्षा नहीं थी इसलिए प्रधानमंत्री को अपने इतने नजदीक पाकर उत्साह से भर उठे.

इससे पहले 68वें गणतंत्र दिवस पर राजपथ पर भव्य परेड देखने को मिली. राजपथ पर भारत के सैन्य ताकत का प्रदर्शन किया गया तो वहीं राज्यों की झांकियों में सांस्कृतिक विविधता और एकता की झलक भी देखने को मिली.

68वें गणतंत्र दिवस के मौके पर राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने राजपथ पर तिरंगा फहराया और देश की सैन्य ताकत का प्रदर्शन हुआ.पहली बार परेड में संयुक्त अरब अमीरात के 144 जवानों का दस्ता भी सेना के जवानों के साथ परेड करता दिखाई दिया.  ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि इस साल गणतंत्र दिवस में मुख्य अतिथि अबु धाबी के शहजादे मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान रहे.

rajpath

यदि राजपथ पर रिपब्लिक डे परेड को नहीं देख पाए, तो यहां देखें पूरा समारोह

देश के 68वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर विजय चौक से ऐतिहासिक लालकिले तक देश की आन-बान-शान का शानदार नजारा गुरुवार सुबह देखा गया, जिसमें प्राचीन काल से चली आ रही भारत की अनूठी एकता में पिरोई विविधताओं वाली विरासत, आधुनिक युग की विभिन्न क्षेत्रों की उसकी उपलब्धियां और देश की सुरक्षा की गारंटी देने वाली फौज की क्षमता का भव्य प्रदर्शन हुआ। यदि आप इस समारोह को नहीं देख पाएं तो नीचे वीडियो पर क्लिक कर आप राजपथ पर हुए इस भव्‍य परेड को देख सकते हैं।

शहजादे मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान थे। परेड में यूएई के सैनिकों की एक टुकड़ी ने अपने देश के ध्वज के साथ हिस्सा लिया जिसमें उसका संगीत बैंड शामिल था। सलामी मंच पर राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की मौजूदगी में राजपथ पर आज भारत की संस्कृति के रंगों और रक्षा क्षेत्र की ताकत का प्रदर्शन किया गया। परेड में जहां सारी दुनिया में सबसे अधिक विभिन्नता वाले देश भारत को एक सिरे में पिरोने वाली उसकी हर कोने की सांस्कृतिक समृद्धि को दर्शाया, वहीं अत्याधुनिक हथियारों, मिसाइलों, विमानों और भारतीय सैनिकों के दस्तों ने देश के किसी भी चुनौती से निपट सकने की ताकत का अहसास कराया। सबसे अंत में रोमांच से भर देने वाले वायु सेना के अत्याधुनिक विमानों को राजपथ के उपर से हैरतअंगेज कारनामों के साथ उड़ान भरते देख कर उन विमानों की ताकत के साथ ही वायुसेना के पायलटों का हुनर और जांबाज़ी का अहसास हुआ।