Monthly Archives: May 2017

pm-narendra-modi-spain-second-leg-of-four-nation-tour

जर्मनी से स्पेन पहुंचे पीएम मोदी, थोड़ी देर में स्पेनिश राष्ट्रपति से करेंगे मुलाकात

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चार देशों की अपनी छह दिवसीय यात्रा के दूसरे पड़ाव पर मंगलवार को जर्मनी से स्पेन की राजधानी मैड्रिड पहुंच गए. बुधवार को वह स्पेन में वहां के राष्ट्रपति मरिआनो रजोय से मुलाकात करेंगे. मोदी के इस दौरे का मकसद द्विपक्षीय आर्थिक संबंधों को मजबूत बनाना और भारत में निवेश के लिए आमंत्रित करना है.

मोदी जर्मनी में द्विपक्षीय समाझौते और वहां की चांसलर एंगेला मर्केल से गुफ्तगू करने के बाद स्पेन पहुंचे हैं. स्पेन की राजधानी मैड्रिड पहुंचते ही पीएम मोदी ने अंग्रेजी और स्पेनिश भाषा में ट्वीट कर इसकी जानकारी दी. उन्होंने अपने इस स्पेन दौरे को आर्थिक और सांस्कृतिक संबंधों को सुधारने की दिशा में अहम कदम करार दिया. साल 1988 के बाद स्पेन का दौरा करने वाले मोदी पहले भारतीय प्रधानमंत्री हैं.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गोपाल बांगले ने ट्वीट कर बताया कि मैड्रिड पहुंचने पर स्पेन के वित्तमंत्री ने मोदी का जबरदस्त स्वागत किया. बुधवार को पीएम मोदी अपने स्पेनिश समकक्ष मरिआनो रजोय से मुलाकात करेंगे. इस बीच दोनों नेताओं के बीच द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत बनाने को लेकर चर्चा होगी. पीएम मोदी स्पेन के किंग फेलिप VI से भी मुलाकात करेंगे.

इसके अलावा पीएम मोदी भारत में निवेश के इच्छुक स्पेन के दिग्गज कारोबारी नेताओं के साथ गोलमेज बैठक करेंगे. विदेश मंत्रालय की ओर से जारी बयान में कहा गया कि मोदी के इस दौरे से भारत-स्पेन के दोस्ताने द्विपक्षीय रिश्ते मजबूत होंगे और इनमें तेजी आएगी. स्पेन के बाद पीएम मोदी रूस के लिए रवाना होंगे, जहां वह रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ 18वें भारत-रूस वार्षिक समिट में हिस्सा लेंगे. इसके बाद सेंट पीटरबर्ग इंटरनेशनल इकोनॉमिक फोरम में हिस्सा लेंगे. इसके बाद दो जून को पीएम मोदी फ्रांस के लिए रवाना होंगे.

made-for-each-other-says-pm-narendra-modi-on-india-and-germany

भारत-जर्मनी संबंधों पर बोले पीएम नरेंद्र मोदी- ‘मेड फॉर ईच अदर’, 8 समझौतों पर हस्ताक्षर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जर्मनी यात्रा के दौरान दोनों देशों के बीच आठ समझौतों पर हस्ताक्षर हुए हैं. बर्लिन में पीएम नरेंद्र मोदी और जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल की साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस में पीएम मोदी ने कहा कि हमने आतंकवाद और जलवायु के मुद्दे पर चर्चा की है. दुनिया के सामने आतंकवाद समेत कई चुनौतियां है. मानवतावादी शक्तियों को एकजुट होना होगा. पीएम मोदी ने यहां यह भी कहा कि हम एक-दूसरे के लिए बने हैं.

  • भारत-जर्मनी के बीच 8 समझौते हुए हैं
  • रेलवे के आधुनिकीकरण के लिए जर्मन कंपनियों से सहयोग
  • स्टार्टअप के लिए जर्मन कंपनियों
  • गंगा सफाई में भी जर्मनी सहयोग कर रहा है
  • दुनिया के सामने आतंकवाद समेत कई चुनौतियां
  • स्मार्ट सिटी बनाने में भी जर्मनी से सहयोग
  • मेक इन इंडिया के लिए जर्मनी कंपनियों का स्वागत
  • लोकतांत्रिक मूल्य ताकत देते हैं
  • जर्मनी यूरोपीय संघ में भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक साझीदार है और देश में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश :एफडीआई: का सबसे अग्रणी स्रोत है
good-interaction-says-pm-modi-after-meeting-with-angela-merkel

एंजेला मर्केल से मुलाकात के बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा- अच्छी रही बातचीत

चार देशों के दौरे पर गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जर्मनी पहुंच गए हैं. जर्मनी में पीएम ने डिनर पर जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल से मुलाक़ात की है. जर्मनी पहुंचते ही पीएम ने ट्वीट किया किया कि जर्मनी पहुंच गया हूं. मुझे पूरा विश्वास है कि यह दौरा भारत के लिए लाभदायक होगा और भारत-जर्मनी के रिश्तों को मजबूत करेगा. छह दिनों के इस दौरे में पीएम जर्मनी के अलावा स्पेन, रूस और फ्रांस भी जाएंगे.  जर्मनी के ब्रैडेनबर्ग जिले में स्थित 18वीं सदी के महल ‘श्लॉस मीजबर्ग’ के बाग में खिली धूप में दोनों नेता साथ में टहले. बैठक ‘श्लॉस मीजबर्ग’ की आगंतुक पुस्तिका में पीएम मोदी के हस्ताक्षर करने के साथ शुरू हुई. बैठक के बाद प्रधानमंत्री ने ट्विटर पर लिखा, ‘चांसलर मर्केल के साथ बहुत अच्छी बातचीत हुई.’ बैठक को एक बेहद अनौपचारिक मामला बताया गया. पीएम मोदी के दो दिन के जर्मनी के दौरे के औपचारिक कार्यक्रम कल से शुरू होंगे.

विदेश मंत्रालय ने एक बयान में आलीशान महल के बाग में दोनों नेताओं के आपस में बातचीत के दौरान ली गई तस्वीरें डालते हुए कहा, एक सार्थक भागीदारी का बंधन. चांसलर मर्केल ने निजी रात्रिभोज से पहले श्लॉस मीजबर्ग में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगवानी की. इसी बीच मोदी के साथ गए प्रतिनिधिमंडल में शामिल वरिष्ठ मंत्री भी अपने जर्मन समकक्षों से बातचीत कर रहे हैं. इन मंत्रियों में वाणिज्य मंत्री निर्मला सीतारमण, ऊर्जा मंत्री पीयूष गोयल और विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर शामिल हैं.

who-is-narendra-modi-surprise-answers-given-by-foreigners-video-viral

नरेंद्र मोदी कौन हैं? विदेशियों ने दिए चौंकाने वाले जवाब, वीडियो हो रहा वायरल

साल 2014 लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री उम्मीदवार घोषित करने के बाद बीजेपी ने देशभर में उनकी ब्रांडिंग की थी. सोशल मीडिया पर कैंपेन चलाने के साथ ज्यादा से ज्यादा जनसभाएं आयोजित कर नरेंद्र मोदी को घर-घर पहुंचाने की कोशिश की गई थी, जो शायद सफल भी हुआ. बीजेपी पूर्ण बहुमत से सत्ता में आई और नरेंद्र मोदी भारत के प्रधानमंत्री बने. प्रधानमंत्री बनने के बाद नरेंद्र मोदी ने ताबड़तोड़ विदेशी दौरे किए, तर्क दिया गया कि वे भारत को अंतरराष्ट्रीय मंच पर मजबूती देने के लिए ये सब कर रहे हैं. अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार के तीन साल हो गए हैं. ऐसे में यूट्यूबर रिक्शावाली (Rickshawali) स्पेन के  इबीसा द्वीपसमूह पर पहुंची और वहां के लोगों को भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर दिखाकर उन्हें पहचानने को कहा. ज्यादातर लोगों ने पीएम मोदी को पहचान लिया और उनके बारे में बेहद चौंकाने वाले जवाब दिए.

एक स्पेनिस लड़के ने तो यहां तक कह दिया कि नरेंद्र मोदी अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से भी ज्यादा पावरफुल हैं. उसने अपने हाथों से इशारा करते हुए कहा कि नरेंद्र मोदी को चाहिए की वह डोनाल्ड ट्रंप को अमेरिका से हटाएं.

खुद को योगा शिक्षक बता रही स्पेन की एक महिला ने नरेंद्र मोदी की ओर से विश्व योग दिवस (world yoga day 2017) शुरू किए जाने के चलते उन्हें शुक्रिया कहा. द्वीप पर मौजूद ज्यादातर लोगों को योग दिवस की तारीख 21 जून याद थे. इतना ही नहीं कई लोगों ने तो योग के स्टेप करके भी दिखाए. कई लोगों ने नरेंद्र मोदी की तस्वीर देखते ही कहा, ‘वेरी पावरफुल पर्सन’. एक शख्स को तो ‘हर-हर मोदी, घर-घर मोदी’ को नारा भी मालूम था. लोगों के जवाब सुनकर रिक्शावाली भी अचंभित थीं. हालांकि एक शख्स ने तो पीएम मोदी की तस्वीर देखकर उन्हें गांधी बता डाला.

मालूम हो कि भारत से स्पेन की दूरी करीब 7,951 किलोमीटर है. वहां के लोगों के बीच नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता दर्शाने वाले इस वीडियो को उनके समर्थक सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक और ट्विटर पर भी खूब शेयर कर रहे हैं. यह वीडियो यूट्यब पर 26 मई को शेयर किया गया है. साल 2014 में इसी दिन नरेंद्र मोदी ने भारत के प्रधानमंत्री पद की शपथ ली थी.

pm-narendra-modi-moves-on-four-nation-trip

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चार देशों की यात्रा पर रवाना

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चार देशों की यात्रा पर रवाना

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जर्मनी, स्पेन, रूस और फ्रांस की चार देशों की यात्रा पर सोमवार को रवाना हो गए. इस यात्रा का उद्देश्य इन देशों के साथ भारत की आर्थिक गतिविधियों को बढ़ाना तथा और निवेश आकर्षित करना है.

पीएम मोदी सबसे पहले जर्मनी जाएंगे, जहां वह भारत-जर्मनी अंतर सरकारी विमर्श (आईजीसी) की रूपरेखा के तहत चांसलर एंजेला मर्केल से बातचीत करेंगे. वह जर्मनी के राष्ट्रपति फ्रैंक-वाल्टर स्टीनमिएर से भी मुलाकात करेंगे.

वह मर्केल से व्यापार में सहयोग, सुरक्षा और आतंकवाद रोधी कार्यकलाप, नवोन्मेष और विज्ञान एवं तकनीक, कौशल विकास, शहरी ढांचा, रेलवे और नागरिक उड्डयन, स्वच्छ उर्जा, विकास, स्वास्थ्य तथा वैकल्पिक औषधि के क्षेत्रों में बातचीत करेंगे. बर्लिन में मोदी और मर्केल व्यापार और निवेश संबंधों को और मजबूत करने के लिए दोनों देशों के शीर्ष कारोबारी नेताओं से बातचीत करेंगे.

मंगलवार को मोदी आधिकारिक दौरे पर स्पेन जाएंगे जो करीब तीन दशकों में भारतीय प्रधानमंत्री की इस देश की पहली यात्रा होगी. वह स्पेन के राजा फिलिप षष्टम से मुलाकात करेंगे और राष्ट्रपति मार्यानो राहॉय से बातचीत करेंगे. मोदी द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत करने, खासतौर से आर्थिक क्षेत्र में और साझा हितों के अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर सहयोग विशेषतौर से आतंकवाद से लड़ने के तरीकों पर चर्चा करेंगे.

वह स्पेनिश उद्योग के शीर्ष सीईओ से भी मुलाकात करेंगे और उन्हें ‘‘मेक इन इंडिया’’ पहल में साझेदार बनने के लिए प्रेरित करेंगे. स्पेन से प्रधानमंत्री 31 मई को रूस के सेंट पीटर्सबर्ग जाएंगे जहां वे 31 मई से दो जून तक चलने वाले 18वें भारत-रूस वाषिर्क सम्मेलन में शिरकत करेंगे.

दो जून को मोदी और पुतिन सेंट पीटर्सबर्ग अंतरराष्ट्रीय आर्थिक मंच (एसपीआईईएफ) को भी संबोधित करेंगे जहां भारत ‘मेहमान देश’ है. रूस यात्रा की शुरुआत में मोदी लेनिनग्राद पर कब्जे के दौरान मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि देने पिस्कारोव्स्कोये स्मारक जाएंगे.

वह विश्व प्रसिद्ध हर्मिटेज म्यूजियम और इंस्टीट्यूट ऑफ ओरिएंटल मैन्युस्क्रिप्ट का भी दौरा करेंगे. यात्रा के अंतिम चरण में वह फ्रांस के नव निर्वाचित राष्ट्रपति इमैन्युअल मैक्रोन से आधिकारिक मुलाकात के लिए दो से तीन जून तक फ्रांस जाएंगे.

फ्रांस रक्षा, अंतरिक्ष, परमाणु तथा नवीकरणीय ऊर्जा, शहरी विकास और रेलवे के क्षेत्रों में भारत की विकासात्मक पहलों में नौवां सबसे बड़ा निवेशक और अहम साझेदार है.