Category Archives: Narendra Modi

modi

खुल गया राज आखिर पीएम नरेंद्र मोदी कैसे करते हैं 18 घंटे लगातार काम?

पीएम नरेन्द्र मोदी के बारे में विरोधीगण चाहे जो कुछ भी कहें लेकिन एक बात का लोहा तो वो भी मानते हैं और वो बात है पीएम के फिटनेस की। पीएम मोदी के साथ काम करने वाले लोग इसलिए परेशान रहते हैं क्योंकि वो लगातार 18 घंटे बिना थके काम कर लेते हैं।

संयमित और अनुशासन वाली जीवन शैली
जिसके पीछे कारण है पीएम मोदी की संयमित और अनुशासन वाली जीवन शैली, जिसके कारण उम्र की इस अवस्था में भी वो फिट हैं और इसी कारण हिट भी हैं। पीएम की फिटनेस के बारे में खुलासा किया पीएम के योग गुरू एच. आर. नागेन्द्र ने।

पीएम के योग गुरू

ईनायडू की वेबसाइट में छपी खबर के मुताबिक पीएम के योग गुरू एच. आर. नागेन्द्र ने कहा कि पीएम मोदी की लाइफ काफी नियमों से चलती है जिसकी वजह से ही वो स्वस्थ रहते हैं।

पीएम तो ‘कर्म योगी’ हैं
एम्स में आयोजित नेशनल मेडिकोज ऑर्गेनाइजेशन के सम्मेलन में बात करते हुुए योग गुरू ने कहा कि पीएम तो ‘कर्म योगी’ है। जिसके कारण वो बिना थके अपना कार्य बखूबी कर पाते हैं।

सुबह योग जरूर करते हैं
पीएम मोदी चाहे जाड़ा हो, गर्मी हो या फिर बरसात हो, सुबह योग जरूर करते हैं, जिसकी वजह से ही वो तनाव मुक्त रहते हैं और अपने कार्य पर ध्यान केंद्रित कर पाते हैं।

90 के दशक में सिखाया था योग
नागेन्द्र ने कहा कि उन्होंने 1990 के दशक में मोदी को योग सिखाया था और उसके बाद से वह लगातार योग कर रहे हैं, वक्त बदल चुका है लेकिन मोदी का नियम नहीं बदला।

नरेन्द्र मोदी की सफलता का रहस्य

नाम – नरेन्द्र दामोदरदास मोदी| जन्म – 17 सितम्बर 1950| वर्तमान में सबसे चर्चित व्यक्ति| नरेन्द्र मोदी वाकई में एक लीडर है और उनके सामने सारी मुसीबतें कमजोर पड़ जाती है| यह उनका व्यक्तित्व ही है जिसके कारण आज वह भारत के प्रधानमंत्री (Prime Minister ) है और विश्व की निगाहें उन पर टिकी हुयी है| नरेन्द्र मोदी भारत के ज्यादातर व्यक्तियों के आदर्श बन गए है और उनके व्यक्तित्व की खूबियों का परिक्षण करके हम भी अपने व्यक्तित्व को उत्तम बना सकते है क्योंकि यह हमारा व्यक्तित्व एंव चरित्र ही होता है जो हमें सफल बनाता है|

Narendra-Modi

तो आईये जानते है कि क्या है नरेन्द्र मोदी की सफलता का राज़:-

मेहनत (Hardwork):-

नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) की सफलता का सबसे बड़ा राज यही है कि वह बहुत ज्यादा मेहनत करते है| चुनाव के समय वह केवल 3-4 घंटे ही सोते थे एंव प्रधानमंत्री बनने के बाद भी वह 18 घंटे कार्य करते है| मेहनत से व्यक्ति का आत्मविश्वास बढ़ता है एंव सफलता के सारे रास्ते खुल जाते है| यह मोदी की मेहनत ही है जिसके कारण एक चाय बेचने वाला आज भारत का प्रधानमंत्री है|

आत्मविश्वास (self-confidence):-

Narendra Modi में गज़ब का आत्मविश्वास है| वह मुसीबतों से नहीं डरते और हमेशा प्रेरित एंव उत्साहित रहते है| आत्मविश्वास वहीँ होता है जहाँ किसी भी प्रकार का कोई “डर” नहीं होता|

सही समय पर सही निर्णय (Right Decision at Right Time):-

Modi की टाइमिंग गज़ब की है एंव वे प्रत्येक अपना प्रत्येक decision सही समय पर लेते है| Decision जितना महत्वपूर्ण होता है उसकी timing भी उतनी ही महत्वपूर्ण होती है| Narendra Modi ने शपथ समारोह में सभी देशों के प्रमुखों को बुलाकर सही टाइम पर सही decision लिया| मोदी ने हवाई वादे नहीं किये एंव उनकी सरकार के पहले बजट में भी इसी बात पर जोर दिया गया कि सबसे पहले अधूरी योजनाओं को पूरा किया जायेगा| मोदी निरंतर अपने सांसदों के साथ मीटिंग करते है एंव उन्हें ज्यादा से ज्यादा समय संसद में बिताने, काम पर ध्यान देने एंव फालतू बयानबाजी से बचने की सलाह देते है|

व्यवहारकुशलता एंव पहनावा :-

Modi की वाणी बुलंद है एंव उनके पास गज़ब की बोलने की कला है| Modi जब जनता के सामने बोलते है तो वे जनता की बात करते है और तेज आवाज से बोलते है एंव वे जब विदेशों के प्रमुखों के साथ बातचीत करते है तो बड़े आराम एंव शांतिपूर्ण तरीके के साथ बातचीत करते है|

Modi जहाँ भी जाते है वहां के हो जाते है| Modi जहाँ भी जाते है वहां की बात करते है, अगर वे राजस्थान जाते है तो राजस्थान की विशेषताओं की बात करते है एंव अगर वो नेपाल जाते है तो नेपाल की खूबसुरती की बात करते है| इसलिए उस क्षेत्र के लोगों को Modi अपने लगते है|

Modi अपने पहनावे पर विशेष ध्यान देते है एंव इसीलिए आज वे स्टाइल आइकॉन बन गए है एंव मार्केट में उनके स्टाइल के कपड़ों की विशेष डिमांड है|

सकारात्मक एंव आशावादी (Positive Thinking):-

Modi सकारात्मक सोच रखते है एंव आशावादी बनने की सलाह देते है| वे एक motivational गुरु की तरह बात करते है एंव दूसरों को प्रेरित करते रहते है| वे कार्य को सकारात्मक रूप से शुरू करते है एंव उसे पूरा करने के लिए जी जान लगा देते है| Modi आलोचनाओं की परवाह नहीं करते एंव आलोचनाओं को मुंह तोड़ जवाब देते है| वे जानते हैं कि अगर आलोचनाओं में दम नहीं है, तो वो आलोचना उनके लिए फायदेमंद हैं क्योंकि इससे बिना किसी खर्च के उनका प्रचार होता हैं|

रचनात्मक सोच (Creative Thinking):-

Modi रचनात्मक रूप से सोचते है (Creative thinking) एंव रचनात्मकता को बढ़ावा देते है| वे हमेशा समस्याओं का समाधान, creative ideas के द्वारा करते है| उन्होंने www.mygov.nic.in website launch की ताकि वे जनता से सीधे जुड़ सकें एंव जनता के महत्वपूर्ण सुझाव उन्हें प्राप्त हो सके| Modi के चुनाव प्रचार का मुख्य साधन social media थी एंव यह उनकी creative thinking को दर्शाता है |

भारत की बात करते है (India First):-

Narendra Modi अपनी पार्टी से ज्यादा भारत (India First) की बात करते है जो उन्हें अन्य पार्टियों के नेताओं से अलग बनाता है| नरेन्द्र मोदी जानते है कि अगर भारत मजबूत हुआ तो उनकी पार्टी स्वत: मजबूत हो जाएगी, लेकिन अन्य पार्टियों ने इस बात को नहीं समझा और उन्हें इसका खामियाजा चुनाव में भुगतना पड़ा| नरेन्द्र मोदी ने अपनी पार्टी को इस तरह से पेश किया है कि जनता के सामने उनसे अच्छा कोई विकल्प नहीं रहा |

परिवर्तन को अपनाते है :-

अगर इस लोकसभा चुनाव में कांग्रेस और बीजेपी की तुलना करें तो उनमे सबसे बड़ा फर्क यह था कि कांग्रेस ने अपना वही पुराना तरीका अपनाया एंव जनता की भावनाओं को समझ नहीं सकी लेकिन मोदी यह समझ गए कि जनता विकास चाहती है न की धर्म की राजनीती इसलिए Narendra Modi ने अपनी किसी भी रैली में धर्म सम्बन्धी बात नहीं की|

सबको साथ लेकर चलते है :-

Modi का यह मंत्र “सबका साथ, सबका विकास” (SABAKA SATH, SABAKA VIKAS) आज अमेरिका को भी पसंद आ रहा है| मोदी हमेशा से ही सबको साथ लेकर चलने की कोशिश करते रहते है| हमेशा यह देखा गया है कि जब भी नयी सरकार बनती है तो मंत्री पद को लेकर हमेशा कोई न कोई मतभेद देखने को मिलते है लेकिन आज Modi की सरकार में आपस में कोई मतभेद नहीं है जबकि कुछ वर्षों पूर्व बीजेपी में ही एक साथ कई मतभेद देखने को मिलते थे| Modi की एक खास बात यह भी है की मतभेदों को बाहर आने से पूर्व ही वे उन्हें सुलझा देते है|

10. अनुशासन (Discipline ) :-

Modi की जब से सरकार बनी है वे एक Professional CEO की तरह कार्य कर रहे है एंव अपने सांसदों की निरंतर class ले रहे है एंव उन्हें सख्त हिदायत दे रहे है कि सांसद, संसद की कार्यवाही में भाग ले एंव समय पर संसद पहुंचे| यह उनका अनुशासन ही था कि वे दिन में एक साथ 4-5 रैलियां करते थे एंव 18-20 घंटे मेहनत करते थे|

11. शारीरिक सक्षमता:-

मोदी एक फिट नेता है एंव वे इतनी ज्यादा मेहनत करने के बावजूद कभी भी थके हुए नहीं लगते| वे हमेशा आत्मविश्वास(Confidence) से भरे हुए रहते है एंव उनका energy level कभी कम नहीं होता|

 

मुझे लोकसभा में बोलने नहीं दिया जा रहा इसलिए जनसभा में बोल रहा हूं : नोटबंदी पर पीएम मोदी

पीएम नरेंद्र मोदी आज गुजरात दौरे पर हैं. यहां उन्होंने संसद में हंगामे का जिक्र भी किया. उन्होंने कहा कि देश के राष्ट्रपति भी संसद में हो रहे हंगामे से दुखी हैं. इतने कि उन्हें सार्वजनिक रूप से सांसदों को टोकना पड़ा. राष्ट्रपति के टोकने के बाद भी संसद में हंगामा हुआ!

narendra-modi gujrat

पीएम ने कहा कि संसद में सरकार कह रही है कि पीएम बोलने के लिए तैयार हैं. लेकिन विपक्ष चर्चा नहीं चाहता. क्योंकि झूठ टिकता नहीं है इसलिए विपक्ष चर्चा से भाग रहा है. मुझे लोकसभा में बोलने का मौका नहीं दिया जा रहा इसलिए मैं जनसभा में बोल रहा हूं!

नोटबंदी पर उन्होंने कहा कि पूरे देश में इस बात की चर्चा चल रही है कि नोटों को क्या होगा. आप बताएं कि 8 तारीख के पहले 100 के नोट की कोई कीमत थी. 50, 20 के नोट को कोई पूछता भी नहीं था. या यूं कहें ‘छोटों’ को कोई पूछता नहीं था. सब 1000 और 500 की बात करते थे. 8 नवंबर के बाद गरीबों की पूछ बढ़ी. मैंने गरीब की ताकत बढ़ाने के लिए ये काम किया. देश बड़े नोटों के नीचे दबने लगा था. इससे छोटे नोटों की ताकत नहीं, गरीब लोगों की ताकत बढ़ी है.

क्या 8 नवंबर से पहले 100, 50, 20 की कीमत थी, हमने ‘छोटों’ की ताकत बढ़ा दी : बनासकांठा में पीएम मोदी

पीएम मोदी आज गुजरात दौरे पर हैं. उन्होंने बनासकांठा में कहा कि मैं इस मिट्टी में पैदा हुआ हूं. मैं पीएम के रूप में नहीं संतान के रूप में आया हूं. 25 साल बाद किसी पीएम का बनासकांठा दौरा हो रहा है. देश को बनासकांठा के बारे में पता चलना चाहिए. यहां के किसानों के काम का पता चलना चाहिए. यहां का किसान मिट्टी खोदकर सोना बना देता है. किसानों ने ही बनास की सूखी धरती को सोने में तब्दील कर दिया!

narendra-modi in gujrat

पीएम ने नोटबंदी का जिक्र करते हुए कहा- पूरे देश में इस बात की चर्चा चल रही है कि नोटों को क्या होगा. आप बताएं कि 8 नवंबर से पहले 100 के नोट की कोई कीमत थी क्या.100, 50 और 20 के नोट को कोई पूछता भी नहीं था. या यूं कहें ‘छोटों’ को कोई पूछता नहीं था. सब 1000 और 500 की बात करते थे. 8 नवंबर के बाद गरीबों की पूछ बढ़ी. मैंने गरीब की ताकत बढ़ाने के लिए ये काम किया. देश बड़े नोटों के नीचे दबने लगा था. नोटबंदी से छोटे नोटों की ताकत ही नहीं, गरीबों की ताकत भी बढ़ी है!

पीएम मोदी के भाषण के मुख्य अंश

  • बनासकांठा में दूध दही की नदियां बहती हैं
  • मरुभूमि में किसान ने अनाज उगाकर दिखाया
  • यहां के किसानों ने रेगिस्तान को सोना बनाया
  • किसानों ने अपना ही नहीं आने वाली पीढ़ियों का भी भाग्य बदला
  • बनासकाठा को बचाने के लिए पानी को बचाना होगा
  • जब मैं मुख्यमंत्री बना था तो लोगों ने कहा था कि सरपंच का चुनाव भी नहीं लड़ा
  • आज मेरा काम दुनिया के सामने है
  • बनासकांठा में माताओं की मेहनत से श्वेतक्रांति
  • पहले लोग कच्छ और बनासकांठा से पलायन कर जाते थे
  • श्वेत क्रांति के बाद स्वीट क्रांति ला सकते हैं
  • बनासकांठा के किसान अब स्वीट क्रांति लाएंगे
  • गुजरात के डेयरी उद्योग का देश-दुनिया में नाम है
  • पशुसेवा और श्वेत क्रांति लाएं किसान
  • मधुमक्खी पालन का फायदा किसानों को मिलेगा
  • 8 नवंबर से पहले बड़े-बड़ों की पूछ थी
  • छोटे नोटों की कोई पूछ नहीं थी
  • छोटे नोट की ताकत बढ़ी है. गरीब लोगों की ताकत बढ़ी है
  • गरीबों के लिए यह बहुत बड़ा फैसला
  • देश बड़े नोटों के ढेर के नीचे दबने लगा था
  • कच्चा-पक्का का खेल पक्का हो गया है
  • जाली नोटों का कारोबार बंद हुआ
  • जाली नोट के कारोबारी नोट बहा रहे हैं
  • 70 साल तक ईमानदार लोगों को लूटा
  • नोटबंदी पर लोगों के समर्थन के लिए शुक्रिया
  • जानता हूं नोटबंदी से लोगों को दिक्कत हुई है
  • 50 दिन के बाद कष्ट कम होगा
  • नोटबंदी के बाद पाप करने वाले नहीं बचेंगे
  • अब आपका बटुआ आपके मोबाइल में
  • नोटों के पहाड़ अर्थतंत्र को नोच रहे हैं
  • अब बैंक और बटुआ आपके मोबाइल में

पीएम नरेंद्र मोदी ने सोनिया गांधी को जन्मदिन पर दी बधाई

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को उनके जन्मदिन पर शुभकामनाएं दीं और उनकी दीर्घायु एवं अच्छे स्वास्थ्य की कामना की.

प्रधानमंत्री ने ट्वीट किया, “श्रीमती सोनिया गांधी को जन्मदिन की शुभकामनाएं… ईश्वर उन्हें अच्छा स्वास्थ्य एवं दीर्घायु दे…” सोनिया गांधी का जन्म 9 दिसंबर, 1946 को हुआ था, और शुक्रवार को उनके जन्म की 70वीं वर्षगांठ है.